बिहार की 5 पर्यटन योजनाओं को केंद्र सरकार की मंजूरी…पढ़ें पूरी खबर

0
141
केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी स्वदेश दर्शन योजना के तहत अब तक बिहार की कुल पांच योजनाओं को स्वीकृति दी गयी है. इनमें स्प्रीचुअल सर्किट के रूप में वैशाली-आरा-मसाद-पटना-राजगीर-पावापुरी-चंपापुरी, सुलतानगंज-धर्मशाला-देवघर और मंदार हिल-अंग प्रदेश शामिल हैं. तीनों योजनाओं के लिए क्रमश: 52.39 करोड़, 52.35 करोड़ और 53.49 करोड़ की राशि स्वीकृत की गयी है. बुद्धस्टि सर्किट के तहत बोधगया में कल्चरल सेंटर के लिए 98.73 करोड़ रुपये की योजना को मंजूरी दी गयी है.
रूरल सर्किट के तहत भितिहरवा-चंद्रहिया-तुरकौलिया के लिए 44.65 करोड़ की योजना पर सहमति प्रदान की गयी है. यह जानकारी केंद्रीय पर्यटन मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) केजे अलफोंस ने मंगलवार को लोकसभा में गोड्डा से भाजपा के सांसद निशिकांत दुबे के सवाल पर दी.श्री दुबे ने बिहार और झारखंड में पर्यटन विकास के लिए चलायी जा रही योजनाओं के संदर्भ में जानकारी मांगी थी.
केंद्रीय पर्यटन मंत्री केजे अलफोंस ने बताया कि अब तक झारखंड को शामिल नहीं किया गया है. झारखंड की किसी भी योजना को भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय की स्वीकृति नहीं दी गयी है.
हालांकि, झारखंड सरकार ने इसके लिए प्रस्ताव भेजा है, लेेकिन उस पर अब तक फैसला नहीं लिया जा सका है. उन्होंने बताया कि पर्यटन योजनाओं के विकास के लिए प्रस्ताव प्राप्त करना एक सतत प्रतक्रियिा है. फंड की उपलब्धता और निर्धारित मानदंडों के आधार पर प्रस्तावों को स्वीकृति प्रदान की जाती है.
मंत्री ने बताया कि वर्तमान में स्वदेश दर्शन योजना के तहत देश के विभिन्न राज्यों में टूरज्मि सर्किट विकसित करने पर काम किया जा रहा है.
इनमें उत्तर-पूर्व सर्किट, बुद्धस्टि सर्किट, हिमालयान सर्किट, इको सर्किट, वाइल्ड लाइफ सर्किट, रूरल सर्किट, स्प्रीचुअल सर्किट, कोस्टल सर्किट, कृष्णा सर्किट, डेजर्ट सर्किट, ट्राइबल सर्किट, रामायण सर्किट, हैरिटेज सर्किट, सूफी सर्किट और तीर्थंकर सर्किट शामिल हैं. देश के विभन्नि राज्यों से गुजरने वाली इन टूरज्मि सर्किट के विकास के लिए बजटीय प्रावधान के तहत कार्य किया जा रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here